Wednesday, May 12, 2021

JDU के छह MLA बीजेपी में शामिल, तेज प्रताप बोले- बिहार से भी जल्द होगा सफाया

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू (जनता दल यूनाइटेड) को झटका लगा है. उनके छह विधायक बीजेपी में शामिल हो गए हैं. इसको लेकर अब बिहार में भी सियासी पारा चढ़ गया है. आरजेडी नेता और लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जेडीयू का जल्द ही बिहार से भी सफाया हो जाएगा. पार्टी अब पूरी तरह से टूट गई है. इस बार विधानसभा में इनकी पार्टी आधी सीटों पर सिमट कर रह गई है.

तेज प्रताप ने कहा, ‘शुरू से ही उनका सफाया हो रहा है. अरुणाचल प्रदेश से इसकी शुरुआत हुई है. अब बिहार में भी इनका जल्द ही सफाया हो जाएगा. जेडीयू पूरी तरीके से खंडित हो चुकी है, टूट चुकी है. नीतीश कुमार ने जो फैसला लिया बहुत गलत फैसला लिया. उन्होंने पीठ में छुरा घोंपने का काम किया है.’

दूसरी तरफ आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने बीजेपी पर हमला बोला है. शिवानंद तिवारी ने सवाल उठाते हुए कहा है कि जब अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी के पास पर्याप्त संख्या बल था तो फिर जनता दल यूनाइटेड के विधायकों को क्यों तोड़ा गया ?

ये भी पढ़े :  हर कोई पीएम मोदी को हराना चाहता है लेकिन कोई चुनाव लड़ना नहीं चाहता-अमित शाह

शिवानंद तिवारी ने फेसबुक पर लिखा, “बीजेपी को विधानसभा में खासा बहुमत था. फिर उसने नीतीश कुमार के विधायकों को क्यों तोड़ा? भाजपा के इस कदम का क्या अर्थ निकलता है ? क्या माना जाए कि भाजपा ने नीतीश से पुराना हिसाब चुकाना शुरू कर दिया है”.

ये भी पढ़े :  Plurals के जनरल सेक्रेटरी की कम्पनी ने बिना नोटिस दिए कर्मचारियों को निकाला, पुष्पम करती हैं लाखों जॉब्स देने के दावे

नीतीश पर जारी है आरजेडी का हमला
जाहिर है बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार को बने डेढ़ महीना हो चुका है. आरजेडी (राष्ट्रीय जनता दल) लगातार मुख्यमंत्री नीतीश पर हमला कर रही है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से सोमवार को मध्यावधि चुनाव की तैयारी में जुटने का आह्वान करते हुए कहा कि जोड़तोड़ से बनी नीतीश सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं करेगी और 2021 में कभी भी चुनाव हो सकते हैं, जिसके लिए हमें तैयार रहना होगा.

इतना ही नहीं तेजस्वी मकर संक्रांति के बाद बिहार में धन्यवाद यात्रा पर निकलने का ऐलान किया है. तेजस्वी के बयान के बाद सवाल उठने लगा है कि क्या बिहार में जल्द ही टूट जाएगा बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन?

एनडीए के सहयोगी हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने तेजस्वी यादव के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि चुनाव होने की भविष्यवाणी से मैं पूरी तरह सहमत हूं, पर वह उपचुनाव होगा, ना कि विधानसभा चुनाव. आरजेडी और कांग्रेस के कई विधायक हमारे साथ हैं. इन सभी के हमारे साथ आने पर तो उपचुनाव होंगे ही. मांझी ने कहा है कि 14 जनवरी तक इंतजार करें और फिर देखिएगा कि किन-किन सीटों पर उप चुनाव होंगे.

ये भी पढ़े :  प्रधानमंत्री मोदी की मदद का अमेरिका ने माना एहसान,पर यहाँ तो लोग प्रधानमंत्री को ही बोल रहे बुरा भला

बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार जिस तरह के नतीजे आए हैं, उसमें एनडीए को बहुमत से महज दो सीटें ही ज्यादा मिली हैं. बिहार के एनडीए गठबंधन में इस बार चार पार्टियां हैं, जिनमें बीजेपी और जेडीयू के अलावा मुकेश सहनी की वीआईपी और जीतनराम मांझी की HAM शामिल है. यही नहीं जेडीयू पहली बार बीजेपी से कम सीटें जीतकर आई है.

ये भी पढ़े :  Plurals के जनरल सेक्रेटरी की कम्पनी ने बिना नोटिस दिए कर्मचारियों को निकाला, पुष्पम करती हैं लाखों जॉब्स देने के दावे

वहीं, तेजस्वी के अगुवाई वाले महागठबंधन के पास कुल 110 विधायक हैं जबकि AIMIM के पांच और बाकी दलों से तीन एमएलए जीतकर आए हैं. ऐसे में कुछ विधायक इधर से उधर हुए तो बिहार का समीकरण ही बदल सकता है. यही वजह है कि तेजस्वी यादव ही नहीं बल्कि चिराग पासवान भी आगामी चुनाव के लिए अभी से ही कमर कस रहे हैं.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

UP: पंचायत चुनाव में पैसा बांट रहे थे BJP के पूर्व MLA के भाई, रंगे हाथ पकड़े गए

पूर्व भाजपा विधायक अवनीन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ महंत दूबे के छोटे भाई व पूर्व प्रधान सत्येन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ राजू द्विवेदी को...

यूपी पंचायत चुनाव 2021: भाजपा ने जारी की 417 उम्मीदवारों की लिस्ट

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शुक्रवार को जिला पंचायत सदस्य (Jila Panchayat member election) के चुनाव के लिए 417 उम्मीदवारों का...

यूपी: चार चरण में होंगे पंचायत चुनाव, 15 अप्रैल को होगी पहले फेज की वोटिंग, 2 मई को मतगणना

उत्तर प्रदेश में निर्वाचन आयोग ने आज पंचायत चुनाव की तारीखों का एलान कर दिया है। उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में...
%d bloggers like this: