Monday, August 10, 2020

27 साल से कर रही थीं अपने राम को छत मिलने का इन्तजार, भूमिपूजन के बाद अब अन्न ग्रहण करेंगी 81 वर्षीय उर्मिला….

बैठक में अनुपस्थित अधिकारियों-कर्मचारियों से स्पष्टीकरण मांगा गया,डीएम नें वेतन रोकने का भी दिया निर्देश….

महराजगंज। जिलाधिकारी डा. उज्ज्वल कुमार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कंट्रोल रूम में सूचनाओं के आदान प्रदान...

बड़ी खबर:गोरखपुर में नही निकलेगा मोहर्रम का जुलूस,पढा जाएगा फातिहा…

कोरोना लगातार पांव पसारते जा रहा।।कोरोना मरीजो की संख्या बढ़ती जा रही।।इससे सुरक्षा के मद्देनजर गोरखपुर में इस साल मोहर्रम का जुलूस...

कोरोना के शिकंजे में गोरखपुर:आज फिर मिले 200 से अधिक कोरोना मरीज……

गोरखपुर में कोरोना अपना शिकंजा कसते ही जा रहा।।आज फिर गोरखपुर में 235 नए कोरोना मरीज मिले...

पीएम मोदी को मिलने जा रहा है अभेद्य किला,बाल भी बाँका नहीं कर पायेगा कोई ….

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप जिस विमान में सफर करते हैं, ठीक वैसा ही विमान अब पीएम नरेंद्र मोदी भी इस्तेमाल करने वाले हैं

कोरोना का कहर:पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव….

कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा।।आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी भी इसके चपेट में आ गए।।पूर्व...

भगवान राम पूरे देश की आस्था के केंद्र हैं और उनके मंदिर को लेकर आम जनमानस की भावनाएँ किसी से छिपी नहीं है। अब जब बुधवार (अगस्त 5, 2020) राम मंदिर के भूमिपूजन के साथ ही इसकी नींव डाल दी जाएगी और इसके निर्माण की शुरुआत हो जाएगी, मध्य प्रदेश स्थित जबलपुर की एक ऐसी महिला हैं, जो उस दिन अन्न ग्रहण करेंगी। 81 साल की उर्मिला चतुर्वेदी ने 27 साल पहले शपथ ली थी कि वो तब तक अन्न ग्रहण नहीं करेंगी, जब तक अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की शुरुआत नहीं हो जाती।

अब वो घड़ी आ गई है। राम मंदिर के लिए सदियों से संघर्ष चल रहा था और इस यज्ञ में आहुति देने वालों में जहाँ कइयों के नाम लोगों को मालूम हैं, वहीं उर्मिला चतुर्वेदी जैसे भक्त भी हैं, जो अपनी अलग ही लड़ाई लड़ रहे थे और उन्हें अपनी आस्था पर पूरा भरोसा था। नवंबर 2019 में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उन्हें राहत मिली और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर भूमिपूजन के बाद उनके स्वप्न पूरे होंगे।

उर्मिला चतुर्वेदी का कहना है कि उनका शरीर भले ही कमजोर हो गया हो लेकिन उनका संकल्प अभी भी चट्टान की तरह मजबूत है। शायद तभी उम्र के इस पड़ाव तक वो अपने राम को छत मिलने का इन्तजार करती रहीं। जब 1992 में बाबरी ढाँचे को कारसेवकों द्वारा ध्वस्त किया गया था, तभी उन्होंने भीष्म प्रतिज्ञा कर ली थी कि जब तक वहाँ भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण की शुरुआत नहीं हो जाती, वो अन्न नहीं खाएँगी।

ये भी पढ़े :  घरवालों ने बचपन में ही छोड़ दिया था साथ, खुद के बूते पढ़कर पहले प्रयास में ही बनी IAS अफ़सर ...
ये भी पढ़े :  इस देश मे आसमान से कोरोना वायरस के आकार के ओले गिरने से हड़कंप

उर्मिला चतुर्वेदी इतनी उत्साहित हैं कि वो अपने परिजनों को अयोध्या चल कर इस ऐतिहासिक पल का भागी बनने के लिए राजी करने पर तुली हैं। लेकिन कोरोना संक्रमण आपदा और लॉकडाउन का हवाला देकर परिजन किसी तरह उन्हें मना रहे हैं और बाद में अयोध्या ले जा कर रामलला के दर्शन कराने का आश्वासन दे रहे हैं। दरअसल, राम मंदिर को लेकर हुए हिन्दू-मुस्लिम संघर्ष से उर्मिला चतुर्वेदी काफी दुःखी रहती थीं।

उर्मिला चतुर्वेदी का कहना है कि भले ही वो शारीरिक रूप भूमिपूजन में नहीं जा पा रही हैं लेकिन मन से तो वो वहाँ पर मौजद रहेंगी ही। वो चाहती हैं कि अयोध्या में उन्हें भी कोई जगह मिल जाए, जहाँ रह कर वो अपने राम की शरण में जाकर उनकी आराधना करती रहें। वो अपना बाकी जीवन राम की शरण में बिताना चाहती हैं और अयोध्या मंदिर से अच्छी जगह उनके लिए दुनिया में कहीं भी नहीं है।

जबलपुर निवासी 81 साल की उर्मिला चतुर्वेदी ने 28 साल पहले विवादित ढांचा गिरने पर संकल्प लिया था कि जब तक राम मंदिर का निर्माण शुरू नहीं होगा वो अन्न ग्रहण नहीं करेंगी

(

उर्मिला चतुर्वेदी की इस तपस्या में उनके परिजन भी उनके साथ थे, जिन्होंने उनका पूरा सहयोग किया। उनके परिजन भी चाहते हैं कि अब जब राम जन्मभूमि में मंदिर का स्वप्न साकार हो रहा है तो वो जल्दी ही अन्न ग्रहण करना शुरू कर दें। उर्मिला कहती हैं कि इन 27 सालों में वो समाज और लोगों से भी दूर चली गई थीं, कई लोग उन पर दबाव बना रहे थे कि वो अपना उपवास ख़त्म कर दें लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।

ये भी पढ़े :  इस देश मे आसमान से कोरोना वायरस के आकार के ओले गिरने से हड़कंप

कई बार मंचों पर भी सम्मानित किया जा चुका है उर्मिला चतुर्वेदी को। हालाँकि, उनके रिश्तेदारों और समाज के लोगों में कई लोग ऐसे भी थे, जिन्होंने उनकी रामभक्ति को देख कर उनके उपवास का समर्थन किया। आजकल वो पूरा दिन राम मंदिर से जुडी ख़बरें ही देखती रहती हैं। वो दिन भर पूजा-पाठ में व्यस्त रहती हैं और टीवी पर राम मंदिर से जुड़ी ख़बरें देखती हैं। उनके परिजनों की योजना है कि उन्हें अयोध्या ले जाकर सरयू किनारे संकल्प तुड़वाया जाए।

ये भी पढ़े :  एक रात की दुल्हन: सुहागरात के बाद दूल्हे ने पकड़ा माथा, बोला-वो लगती तो नहीं थी ऐसी

इसी तरह बिहार के किशनगंज में ऐसे ही एक राम भक्त हैं, जिन्होंने 18 साल पहले यह प्रण लिया था कि जब तक अयोध्या में राम मंदिर नहीं बन जाता तब तक वो नंगे पाँव रहेंगे। दास किशनगंज में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के ज़िला कार्यकारी होने के साथ ही एक किराने की दुकान भी चलाते हैं। देव दास अब तक 1800 से अधिक लोगों के दाह-संस्कार में शामिल हो कर ख़ुद काम करते हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

समधी-समधन के बाद अब जेठ-देवरानी घर से भागे, जेठानी बोली- बच्चों को कैसे पालूंगी….

यहां समधी-समधन के प्यार में घर से भाग जाने के बाद अब एक शादीशुदा शख्स अपने ही छोटे भाई की पत्नी के साथ भाग...

गोरखपुर के इस बेटे का आईएएस में हुआ चयन, कहा- सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं

जिंदगी में कुछ सार्थक करने के लिए सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं। शुरुआती...

Related Articles

बारिश से बचने के लिए घर में घुसा था, अकेला पाकर शारीरिक शोषण किया

भोपाल के बैरसिया इलाके की घटना। आरोपी परिचित बताया जा रहा है। -प्रतीकात्मक फोटो

कौन है ‘बिनोद’ जिसको लेकर सोशल मीडिया पर आई मीम्स की बाढ़, कैसे शुरू हुआ ये सब….

सोशल मीडिया पर इन दिनों हर कोई एक नाम को जरूर देख रहा है और ये नाम है 'बिनोद'। बिनोद नाम से...

BLACK BOX: विमान हादसे के बाद सबसे पहले क्यों खोजा जाता है ब्लैक बॉक्स?

साल 2020 में कोरोना वायरस महामारी से जूझते देश को शुक्रवार को एक दर्दनाक खबर सुनने को मिली। दुबई से कोझीकोड आ...
%d bloggers like this: