Monday, January 18, 2021

मैरिटल रेप को यौन उत्पीड़न क्यों नहीं मानता है यह पितृसत्तात्मक समाज?

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिले गोरखपुर के युवा,NH29 राज मार्ग जल्द होगा पूरा

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दिया NH29 के सम्बन्ध में आस्वासन गोरखपुर । गोरखपुर के सामाजिक...

लालपुर में समाजसेवी स्व.बालेश्वर राय की पुण्यतिथि पर सैकड़ों जरूरतमंदों को बांटे गए कम्बल

लालपुर में समाजसेवी बालेश्वर की पुण्यतिथि मनाई गयी बांसगांव। आज समाजसेवी पूर्व प्रधान स्व. बालेश्वर राय की 11 वीं...

भव्य राममंदिर निर्माण हेतु महापौर सीताराम जयसवाल ने दिया एक लाख ग्यारह हजार रुपए की समर्पण राशि….

श्रीरामजन्मभूमि निधि समर्पण अभियान के तहत आज गोरखपुर के महापौर सीताराम जयसवाल ने एक लाख ग्यारह हजार रुपए व व्यवसायी भीष्म चौधरी...

20 लाख रुपए का चरस लिए तस्कर को पुलिस और एसएसबी की संयुक्त टीम ने किया गिरफ्तार।

Maharajganj: जनपद महराजगंज सोनौली कोतवाली क्षेत्र के भारत-नेपाल सीमा के सरहदी गांव डंडा हेड के पास पुलिस और एसएसबी की संयुक्त टीम...

बांसगांव विधायक ने सैकड़ों को बाँटे कम्बल,ट्राईसाइकिल पाकर दिव्यांगों के खिले चेहरे

बांसगांव के युवा विधायक डॉ विमलेश पासवान के द्वारा आज ट्राईसाइकिल एवं कम्बल वितरण किया गया यह कार्यक्रम विकास खण्ड बांसगांव में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

महिला यौन उत्पीड़न ना केवल भारत देश में अपनी जड़ों को जमा चुका है, बल्कि विदेशों में भी अपनी पकड़ बनाए हुए है। इसके तहत एक नई सोच जो #मीटू के नाम से विख्यात हुई है, वह बाढ़ की तरह अपनी सीमाओं को लगातार लांघ रही है।

मीटू के तहत हर वह महिला या पुरुष जो अपने जीवन में यौन उत्पीड़न का शिकार हुए हैं, अपनी समस्याओं को जाहिर कर रहे हैं। #मीटू कहने को तो मात्र दो लफ्ज़ हैं मगर इन्हीं दो लफ्ज़ों के ज़रिये लाखों लोगों ने अपने साथ हुई यौन शोषण की बातें ज़ाहिर की हैं।

मीटू हमारे भारत देश की उपज नहीं है। यह अमेरिका की

मीटू हमारे भारत देश की उपज नहीं है। यह अमेरिका की गोद में जन्मा है, जो अब अपना विशाल रूप लेकर विश्व के हर कोने में अपना रुख बढ़ा चुका है।

अमेरिका में सबसे पहले हॉलीवुड अभिनेत्री एलिसा मिलानो ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने सेक्शुअली हैरेस होने की बात लिखते हुए कहा कि हर वह शख्स जो कभी भी यौन उत्पीड़न का शिकार हुआ हो, वह ट्वीट के कमेंट पर आकर #Metoo लिखे।

ये भी पढ़े :  सीट विवाद में 10वीं के छात्र ने क्लासमेट को मारी तीन गोलियां, घर से चुराकर लाया था बंदूक
ये भी पढ़े :  यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, पंचायत चुनाव से पहले 15 आईएएस अफसरों के हुए तबादले, दो डीएम समेत चार मंडलों के कमिश्नर बदले

वहीं से बढ़ता हुआ यह आज हमारे देश की सीमा तक आ पहुंचा। लाखों लड़के-लड़कियों ने इस हैशटैग के साथ अपनी बातें लिखीं। इस कैंपेन में ना सिर्फ आम लड़के-लड़की, बल्कि बॉलीवुड से लेकर टीवी कलाकारों तक ने लिखा।

क्या यह उत्पीड़न नहीं है?
सरकार ने 2013 में एक कानून बनाया था। इसके बाद कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न से महिलाओं का संरक्षण (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013 अस्तित्व में आया था मगर सवाल यह है कि क्या #मीटू कैम्पेन आगे बढ़ाने से महिला उत्पीड़न की समस्या हल हो गई? क्या उनके साथ हुआ यौन उत्पीड़न केवल वजह है? हज़ारों महिलाएं अपने ही घर में उत्पीड़न का शिकार होती हैं। क्या उनका इससे लेना देना नहीं है? क्या वह इसका हिस्सा नहीं?

हज़ारों महिलाएं शादी-शुदा होने बावजूद अपने ही पति की ज़बरदस्ती का शिकार होती हैं, क्या वह महिला उत्पीड़न नहीं है? वे महिलाएं बदनामी की वजह से चुप रहती हैं और इसे अपनी नियति मानकर अपना जीवन बीता देती हैं। हज़ारों माँएं अपने परिवार की ज़िद्द के कारण अपनी कोख से लड़की गिरा देती है, क्या यह उत्पीड़न नहीं है?

ये भी पढ़े :  ऐसी 'जनजातियां' जिनका बाहरी दुनिया से नहीं है कोई वास्ता

हज़ारों महिलाओं को अपनी सास, ननद और पति के तानों और बुरे बर्ताव की वजह से आत्महत्या करनी पड़ती है, क्या यह महिला उत्पीड़न नहीं है? महिलाओं का अस्तित्व केवल चार दीवारी की शोभा बनकर रह गया है, क्या यह उत्पीड़न नहीं है? हमेशा की तरह यह सवाल भी उतने ही अधूरे हैं, जितने कि इनके जवाब।

भारत में लगभग हर महिला किसी ना किसी तरह से उत्पीड़न का शिकार होती है। शारीरिक कष्ट के साथ मानसिक यातनाएं झेलना भी महिला उत्पीड़न का ही हिस्सा है, जिससे महिलाओं को सुरक्षा दिलाना लगभग असंभव है। यह बात अलग है कि जिनकी पहुंच दूर तक होती है या जो अपने आप में खुद सक्षम होती हैं, वे पूरी दुनिया के सामने आने का दम रखती हैं।

ये भी पढ़े :  रेप के आरोप में माहिम दरगाह के ट्रस्टी डॉ. मुदस्सिर नासिर गिरफ्तार, पीड़िता बोली- बेहोशी का इंजेक्शन लगाकर लूटी इज्जत।।

इसके अलावा हमारे देश में लगभग औसत आबादी ऐसी है, जो महिलाओं को ना केवल उत्पीड़न झेलने के लिए कहती है, बल्कि आजीवन उसका हिस्सा बनाकर रखती है। बातें सामने रखना और समस्या का निदान दो अलग हिस्से हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

मेडिकल कॉलेज बना सुसाइड प्वाइंट, 72 घंटे में दूसरे सुसाइड से मेडिकल कॉलेज में हड़कंप।

मुजफ्फरनगर/मंसूरपुर: जनपद में मेडिकल कालेज इन दिनों सुसाइड प्वाइंट बनता नजर आ रहा है। जहां 14 जनवरी को मेडिकल कालेज में बने...

यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, पंचायत चुनाव से पहले 15 आईएएस अफसरों के हुए तबादले, दो डीएम समेत चार मंडलों के कमिश्नर बदले

यूपी में पंचायत चुनाव से पहले 15 आईएएस अफसरों के तबादले किए गए हैं. राज्य में प्रशासनिक फेरबदल की यह जानकारी शनिवार...

यूपी में पंचायत चुनाव 2021 को लेकर तैयारियां जोरों पर है, कैसे होगा आरक्षण, क्या है सरकार की तैयारी? कब होंगे चुनाव।

उत्तरप्रदेश में पंचायत चुनाव 2021 को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं. फाइनल वोटर लिस्ट 22 तारीख को जारी कर दी जाएगी. इसके...
%d bloggers like this: