Monday, September 20, 2021

अपना आख़िरी चुनाव लड़ने जा रहे हैं नरेंद्र मोदी !

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

ये तय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी के लिए 2019 का लोकसभा चुनाव ना सिर्फ जीवन का सबसे महत्वपूर्ण बल्कि निर्णायक चुनाव भी है. 2014 से पहले करीब 13 वर्ष तक देश ने उन्हें गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर देखा था. 2014 लोकसभा चुनाव प्रचार में मोदी ने गुजरात के अपने विकास मॉडल को आगे रखकर देश के लोगों से प्रधानमंत्री बनाने के लिए समर्थन मांगा. देश की जनता ने उन पर विश्वास कर ऐसा समर्थन दिया कि देश में तीन दशक बाद केंद्र में किसी पार्टी को खुद के बूते सरकार बनाने के लिए बहुमत मिला.

लेकिन मोदी के लिए केंद्र में 2019 की चुनौती 2014 से ज़्यादा कठिन है. मोदी 2014 में गुजरात से बाहर समूचे देश की जनता के लिए बंद मुट्ठी के समान थे. लेकिन अब वो बंद मुट्ठी खुल चुकी है. मोदी की अगुआई में एनडीए सरकार के करीब 58 माह के कार्यकाल को देश देख चुका है और उसी आधार पर 2019 लोकसभा चुनाव का फैसला 23 मई को सुनाएगा. अब ये मोदी के लिए अच्छा होगा या बुरा, ये मन की बात तो अभी देश की जनता के मन में ही छुपी है.

खैर अभी देखते हैं कि 26 मई 2014 को देश का प्रधानमंत्री बनते ही नरेंद्र मोदी ने सबसे पहला और अहम फैसला क्या लिया था. तब 64 वर्ष के मोदी ने साफ किया था कि बीजेपी में 75 वर्ष से ऊपर के लोगों को मंत्री पद नहीं मिलेगा. इससे 2014 में लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यशवंत सिन्हा, सुब्रहामण्यण स्वामी और शांता कुमार जैसे 75 वर्ष की आयु पार कर चुके नेताओं का पत्ता स्वत: ही मंत्री पद के लिए कट गया. ज़ाहिर है इसकी खोंच इन सभी नेताओं के मन में अवश्य रही होगी.

ये भी पढ़े :  संसद में किसान आंदोलन पर बोले PM मोदी- प्रदर्शन खत्म कीजिए, सब मिल-बैठकर बात करेंगे

मोदी ने उम्र का ये जो पैमाना तय किया, उस के हिसाब से 2024 के बाद खुद उन पर भी ये लागू हो जाएगा. 17 सितंबर 1950 को जन्मे मोदी के लिए उसी साल 75 वां वर्ष शुरू हो जाएगा. इसके क्या मायने निकालें जाएं कि मोदी 2019 का चुनावी रण जीत जाते हैं तो 2024 लोकसभा चुनाव से पहले खुद ही पार्टी में किसी और के लिए प्रधानमंत्री पद से दावेदारी छोड़ देंगे? क्या ये भी हो सकता है कि मोदी 2024 का लोकसभा चुनाव ही ना लड़ें. इस हिसाब से देखा जाए तो क्या मोदी 2019 में वाराणसी से आख़िरी बार चुनावी ताल ठोकने जा रहे हैं?

ये भी पढ़े :  कोरोना के असर सब लोगिन पर परल खाली राजनीति करे पर नाही

हालांकि 75 वर्ष की उम्र में चुनाव लड़ना और उम्र के इस पड़ाव को पार करने के बाद मंत्री ना बनाए जाना दोनों अलग अलग बातें हैं. यही वजह है कि बीजेपी ने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए साफ़ कर दिया है कि चुनाव लड़ने के लिए उम्र की सीमा किसी के लिए बाधा नहीं बनेगी. यानि 75 वर्ष की उम्र से ऊपर के नेताओं को भी बीजेपी चुनाव लड़ाएगी बशर्ते कि वो स्वास्थ्य की दृष्टि से फिट हों और उनमें चुनाव जीतने का दमखम हो. यानि पार्टी लाल कृष्ण आडवाणी (91), मुरली मनोहर जोशी (85), बी सी खंडूरी (84), कलराज मिश्र (77), शांता कुमार (84) को भी चुनाव लड़ा सकती है. बीजेपी में करीब फिलहाल एक दर्जन लोकसभा सदस्य ऐसे हैं जो 75 की उम्र पार कर चुके हैं. लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन भी इस साल अप्रैल में 76 साल की हो जाएंगी.

जब इन 75 पार के नेताओं को बीजेपी चुनाव लड़ा सकती है तो फिर 2024 में मोदी के लोकसभा चुनाव लड़ने में आखिर कौन सी दिक्कत पेश होगी? सूत्रों के मुताबिक मोदी ने खुद ही गुजरात में अपने बहुत भरोसे के एक वरिष्ठ नौकरशाह को ये संकेत दिया है. सब जानते हैं कि मोदी अलग हट के फैसले लेते हैं और अचानक उनका एलान कर सभी को चौंकाते हैं. पहले देश, फिर पार्टी और अंत में व्यक्ति के सिद्धांत की वक़ालत करने वाले मोदी इस तरह का संकेत देकर जहां पार्टी के आगे के रोडमैप को दिशा देना चाहते हैं, साथ ही पार्टी के बुज़ुर्ग नेताओं को इशारा देना चाहते हैं कि वो खुद ही चुनावी राजनीति से अलग होकर पार्टी की युवाशक्ति को मज़बूत बनाने के लिए अपने समृद्ध अनुभवों से उनका मार्गदर्शन करें. ऐसा होता है और अगर 75 पार के नेता खुद को चुनावी राजनीति से अलग कर लेते हैं तो फिर सत्ता आने पर उन्हें मंत्री पद ना मिलने से असंतोष भी नहीं होगा.

ये भी पढ़े :  ममता ने ‘अश्वमेध का घोड़ा’ ही पकड़ लिया, तो अब युद्ध तय है!

इस तरह से फैसले से उन आलोचकों को भी जवाब मिल जाएगा जो दबे मुंह इस तरह की आशंकाएं जताते रहते हैं कि मोदी आपातकाल लागू कर खुद को अधिक से अधिक वक्त तक प्रधानमंमत्री बनाए रखने का रास्ता ना साफ़ कर दें. ऐसे आरोप लगाने वाले विपक्षी दलों या आलोचकों को अलग रखें तो मोदी की अपनी ही पार्टी के सांसद साक्षी महाराज ने हाल में जो बयान दिया वो अहम है.

ये भी पढ़े :  निर्भया के बाद अब मनीषा बाल्मीकि के दोषियों के वकील होंगे ए.पी.सिंह...

यूपी के उन्नाव से लोकसभा सांसद साक्षी महाराज ने 14 मार्च को अपने संसदीय क्षेत्र में बीजेपी के समर्पण निधि कार्यक्रम में कहा कि वर्ष 2014 में मोदी लहर थी लेकिन वर्ष 2019 में मोदी नाम की सुनामी है और दुनिया की कोई भी ताकत मोदी को प्रधानमंत्री बनाने से रोक नहीं सकती है. साक्षी महाराज ने कहा, “पहली बार देश में जागृति आई है, हिंदू जग गया है लोग जग गए हैं. मैं संन्यासी हूं, मुझे लगता है कि इस चुनाव के बाद 2024 में चुनाव नहीं होगा. केवल यही चुनाव है जो देश के नाम पर लड़ाया जा रहा है, हम लोग पूरी ईमानदारी व सत्यनिष्ठा से उन्नाव ही नहीं जिस किसी का जहां कहीं भी संपर्क हो सब जगह प्रयास करके देश के लिए भाजपा को जिताने का काम करेंगे.”

अब ये बात अलग है कि साक्षी महाराज खुद ही इस बार लोकसभा चुनाव में

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

सिद्धार्थ पांडेय बने भाजपा मीडिया सम्‍पर्क विभाग के क्षेत्रीय संयोजक…

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में जुटी भाजपा संगठन को नए स्‍तर से मजबूत बनाने में...

भाजपा युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय कार्यकारिणी की हुई घोषणा,सूरज राय बने क्षेत्रीय उपाध्यक्ष

Gorakhpur: आज भारतीय जनता युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र की क्षेत्रीय कार्यकारिणी की घोषणा हुई।।युवा मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष पुरुषार्थ सिंह ने आज...

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...
%d bloggers like this: