Tuesday, March 2, 2021

मृतक के स्पर्म पर पिता या उसकी विधवा पत्नी का अधिकार? कलकत्ता हाईकोर्ट ने सुनाया फैसला

BJP ने तैयार किया किसान आंदोलन का काउंटर, चौपालों तक पहुंचने का बनाया मास्टर प्लान, यूपी पंचायत चुनाव पर रहेगी नजर।

उत्तर प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत में सफलता हासिल करने के लिए बीजेपी ने मास्टर प्लान तैयार किया है. किसान आंदोलन...

यूपी में बेरोजगारो को सरकारी नौकरियां देने के लिए सीएम योगी का नया प्लान।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अब आउटसोर्सिंग और संविदा पर सारी भर्तियां सेवायोजन पोर्टल (Sevayojan Portal) के जरिए की जाएंगी. आउटसोर्सिंग...

सर्वोदय महाविद्यालय कौड़ीराम में छात्रों को दी गई राष्ट्र सेवा की शिक्षा

लक्ष्य के प्रति केंद्रित रहते हुए करें सम्पूर्ण चुनौतियों का सामना- सत्य चरण लक्क़ी स.कि.पी.जी.कालेज में रासेयो शिविर का...

पत्नी पंखुड़ी पाठक पर विवादित टिप्पणी से आहत पूर्व सपा प्रवक्ता अनिल यादव ने छोड़ी समाजवादी पार्टी

कांग्रेस नेता पंखुड़ी पाठक के पति व समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल यादव ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया है....

Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल समेत इन पांच राज्यों की चुनावी तारीखों का ऐलान हुआ, 2 मई को आएंगे नतीजे।

Elections 2021: निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने एक पिता द्वारा अपने मृत बेटे के जमा किए हुए स्पर्म पर पेश की दावेदारी को ठुकरा दिया। कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह कहा कि मृतक के अलावा सिर्फ उसकी पत्नी के पास इसे प्राप्त करने का अधिकार है। न्यायमूर्ति सब्यसाची भट्टाचार्य ने कहा कि याचिकाकर्ता के पास अपने बेटे के संरक्षित शुक्राणु को पाने का कोई मैलिक अधिकार नहीं है।

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि उनके बेटे की विधवा को इस मामले में ‘नो ऑब्जेक्शन’ देने के लिए निर्देशित किया जाना चाहिए या कम से कम उसके अनुरोध का जवाब देना चाहिए। अदालत ने हालांकि वकील के इस अनुरोध को खारिज कर दिया।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में शिक्षा की अलख जगा रहे,आरपीएम विद्यालय के संस्थापक का कोरोना के खिलाफ बड़ी मुहिम

अदालत ने कहा कि दिल्ली के एक अस्पताल में रखे गए शुक्राणु मृतक के हैं और चूंकि वह मृत्यु तक वैवाहिक संबंध में थे, इसलिए मृतक के अलावा सिर्फ उनकी पत्नी के पास इसका अधिकार है।

याचिकाकर्ता ने दलील दी कि उनका बेटा थैलेसीमिया का मरीज था और भविष्य में उपयोग के लिए अपने शुक्राणु को दिल्ली के अस्पताल में सुरक्षित रखा था। वकील के अनुसार, याचिकाकर्ता, अपने बेटे के निधन के बाद, अस्पताल के पास मौजूद उसके बेटे के शुक्राणु पाने के लिए संपर्क किया। अस्पताल ने उन्हें सूचित किया कि इसके लिए मृतक की पत्नी से अनुमति की आवश्यकता होगी, और विवाह का प्रमाण देना होगा।

ये भी पढ़े :  राम मंदिर के लिए तैयारी तेज हुई, ट्रस्ट की बैठक में तय हो सकती है तारीख

भारत में 2009 में पहली बार हुई थी दिबंगत पति के स्पर्म से संतान सुख की प्राप्ति
भारत में वर्ष 2009 में दिवंगत पति की के शुक्राणु से पहली बार किसी भारतीय महिला को संतान सुख प्राप्त हुआ है। पति की मौत के दो साल बाद पूजा नाम की एक महिला गर्भवती हुई और उसने कोलकाता के एक अस्पताल में बेटे को जन्म दिया था। पूजा ने अपने दिवंगत पति राजीव के शुक्राणुओं की मदद से गर्भ धारण किया था। नि:संतान दंपति ने 2003 कृत्रिम गर्भाधान के लिए प्रयास शुरू किए थे। इससे पहले पूजा मां बन पाती, 2006 में राजीव की मौत हो गई।

दो साल बाद पूजा को पता चला कि उसके पति के शुक्राणु अस्पताल के स्पर्म बैंक में सुरक्षित है। पूजा ने डॉक्टर से संपर्क किया और फिर वकीलों से भी कानूनी मशवरा लिया। इसके बाद डॉ. वैद्यनाथ चक्रवर्ती ने पूजा का इलाज शुरू किया और वह गर्भवती हो गई। मां बनने के बाद पूजा ने कहा था, ‘मैं चिल्लाकर पूरी दुनिया को बताना चाहती हूं कि मेरे पति लौट आए हैं।’

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

BJP ने तैयार किया किसान आंदोलन का काउंटर, चौपालों तक पहुंचने का बनाया मास्टर प्लान, यूपी पंचायत चुनाव पर रहेगी नजर।

उत्तर प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत में सफलता हासिल करने के लिए बीजेपी ने मास्टर प्लान तैयार किया है. किसान आंदोलन...

यूपी में बेरोजगारो को सरकारी नौकरियां देने के लिए सीएम योगी का नया प्लान।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अब आउटसोर्सिंग और संविदा पर सारी भर्तियां सेवायोजन पोर्टल (Sevayojan Portal) के जरिए की जाएंगी. आउटसोर्सिंग...

पत्नी पंखुड़ी पाठक पर विवादित टिप्पणी से आहत पूर्व सपा प्रवक्ता अनिल यादव ने छोड़ी समाजवादी पार्टी

कांग्रेस नेता पंखुड़ी पाठक के पति व समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल यादव ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया है....
%d bloggers like this: