Tuesday, September 21, 2021

नाना पाटेकर: आर्थिक तंगी झेली, गुजारे के लिए 35 रु में काम किया, अपनी एक्टिंग के दम पर पाई सफलता

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

नाना पाटेकर बॉलीवुड के ऐसे सितारे हैं, जिन्होंने एक लंबे संघर्ष के बाद अपनी एक्टिंग के दम पर सफलता पाई है. नाना के डायलॉग्स के प्रशंसक दीवाने रहे हैं. क्रांतिवीर, खामोशी, प्रहार, तिरंगा, परिंदा, राजनीति, प्रहार, गुलाम-ए-मुस्तफा जैसी तमाम शानदार फिल्में देने वाले नाना पाटेकर ने अपनी जिंदगी में एक समय ऐसा भी देखा जब उन्हें घर चलाने के लिए महज़ 35 रुपए में जेब्रा क्रॉसिंग की पेंटिंग तक करनी पड़ी थी

ये भी पढ़े :  यूपी में भाजपा का भविष्य तय करेंगी मुस्लिम-यादव-दलित की ये 47 सीटें!

नाना ने 1 जनवरी 1951 को महाराष्ट्र के मुराद-जंजिरा में एक मध्यम वर्गीय परिवार में जन्म लिया. उनके पिता मुंबई में टेक्सटाइल का बिजनेस करते थे. लेकिन उनका परिवार अचानक ही आर्थिक तंगी के दौर में आ गया. परिणाम स्वरूप कम उम्र में ही नाना को पढ़ाई के साथ काम भी करना पड़ा. वो सुबह कॉलेज जाते और गुजारे के लिए शाम को ऐड एजेंसी में काम करते. इसी दौरान उनकी मुलाकात नीलकांति पाटेकर से हुईं, 

1978 में नीलकांति पाटेकर से शादी के बाद नाना ने थिएटर की ओर रुख किया. धीरे-धीरे उनकी मेहनत रंग लाई और फिल्म जगत के लिए उनका रास्ता खुला. मुजफ्फर अली की फिल्म गमन से उन्होंने अपना करियर शुरू किया और फिर पलट कर नहीं देखा. दशकों से उनका सिक्का फिल्म जगत में कायम है.   

ये भी पढ़े :  प्रधान नहीं सिर्फ जिला पंचायत चुनाव लड़ेगी भाजपा, लेकिन प्रधानी के चुनाव पर रखें नज़र: सीएम योगी।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

सिद्धार्थ पांडेय बने भाजपा मीडिया सम्‍पर्क विभाग के क्षेत्रीय संयोजक…

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में जुटी भाजपा संगठन को नए स्‍तर से मजबूत बनाने में...
%d bloggers like this: