Sunday, September 19, 2021

नोएडा में है कोरोना के सबसे ज़्यादा मरीज़, इतनी तेजी से फैलने के ये 5 कारण।

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

सीएम ने दिए कार्रवाई के संकेत

मुख्यमंत्री की नाराजगी का आलम यह है कि उन्होंने भरी मीटिंग में न केवल प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की क्लास लगाई बल्कि जिम्मेदारों पर कार्रवाई तक के संकेत दे दिए। असल में मुख्यमंत्री की नाराजगी गलत नहीं है। कहीं-न-कहीं उन्हें भी यह एहसास हो गया है कि नोएडा व ग्रेटर नोएडा में संक्रमण के मरीजों की संख्या टॉप पर पहुंचने के पीछे स्थानीय प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही जिम्मेदार है।

इन पांच कारणाें से यूपी के नोएडा में हैं सबसे ज्‍यादा कोरोना के मरीज

  1. खुफिया विभाग के पास नहीं था विदेश से आए लोगों का आंकड़ा
  2. दो माह पूर्व अलर्ट होने के बाद भी प्रशासन ने दिखाई उदासीनता
  3. कंपनियों में काम करते रहे लोग
  4. संक्रमित लोग सोसायटियों में छिपकर करते रहे निवास
  5. लोगों में जागरुकता की दिखी कमी
ये भी पढ़े :  गोरखपुर के किसानों की मेहनत को खा रहें हैं टिड्डी दल,फ़सल हो रही बर्बाद....

सीज क्यों नहीं हुई सीजफायर कंपनी

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में वर्तमान में लगभग 16000 कंपनियां हैं जिनमें देश-विदेश के लाखों लोग काम करते हैं। अधिकांश कंपनियों में चीन, जापान, लंदन, अमेरिका सहित तमाम देशों के नागरिक हैं। यहां काम करने वाले कर्मचारी- अधिकारी शहर की पॉश सोसायटियो में रहते हैं। सोशल टच (शारीरिक दूरी) न होने के कारण इनका स्थानीय लोगों से कोई वास्ता नहीं होता और सोसायटी प्रबंधन इनके मामले में दखल नहीं देते।

ये भी पढ़े :  यूपी के स्कूलों पर आई बड़ी खबर, जानिए कब से खुलेंगे!

खुफिया विभाग की जिम्‍मेदारी

खुफिया विभाग की जिम्मेदारी होती है कि वह देश से विदेश जाने वालों और विदेश से आने वालों का डाटा संभालकर रखे व समय-समय पर ऐसे लोगों की निगरानी करता रहे। लेकिन, गौतमबुद्ध नगर में खुफिया विभाग के पास ऐसे लोगों का सटीक डाटा ही नहीं था।

अलर्ट के बावजूद नहीं हुई कार्रवाई
कोरोना वायरस को लेकर जब दो माह पहले एलर्ट हुआ तो इसे भी जिले के प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने हलके में लिया। सेक्टर 135 सीज फायर कंपनी का मामला इसका सटीक उदाहरण है और यही मुख्यमंत्री की मीटिंग का मुख्य मुद्दा भी बना।

सीएम ने कहा- जब लंदन से ऑडिटर आकर बांट रहा था कोरोना तब कहा था स्‍वास्थ्य विभाग

मुख्यमंत्री की नाराजगी इसी बात को लेकर थी कि सीज फायर कंपनी का लंदन से आया ऑडिटर जब लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण बांट रहा था तो जिले का स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन कहां था। अधिकारियों के इस तर्क पर कि उस कंपनी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई है।

ये भी पढ़े :  लखनऊ से बेटी ने किया ट्वीट मां की दवा खत्म होगयी हैं, गोरखपुर पुलिस ने घर ढूंढ कर पहुचाई दावा।

कंट्रोलरूम भी सवालों के घेरे में

मुख्यमंत्री ने सीधे शब्दों में पूछा कि कंपनी अब तक सीज क्यों नहीं हुई। इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं था। जिले में संक्रमण से राहत के लिए बनाया गया कंट्रोलरूम भी अब सवालों के घेरे में है। फिलहाल मीटिंग से छन कर आ रही जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री के तेवरों से किसी बड़ी कार्रवाई के संकेत मिल रहे हैं। 

ये भी पढ़े :  अभी अभी :-शाहीन बाग पर सरकार के खिलाफ बोलने वाले शहजाद बीजेपी में शामिल,बोले बीजेपी मुसलमानों की दुश्मन नहीं है....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Maharajganj: तेज तर्रार नेता नितेश मिश्र भाजपा छोड़ थामा सपा का दामन, आपने सैकड़ों समर्थकों के साथ ली सदस्यता

Maharajganj/Dhani: धानी ब्लॉक के डेढ़ सौ लोगो ने पूर्व भाजपा नेता नीतेश मिश्र के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सदस्यता लिया। प्राप्त...

स्वर्णकार समाज ने लोकसभा , विधानसभा में अपने प्रतिनिधित्व के लिए भरी हुँकार,जल्द प्रदेश व्यापी होगी सभा

स्वर्णकार समाज का स्वर लोकसभा एवं विधानसभाओं में मुखरित हो प्रतिनिधित्व सभी पंचायतों में हो इस विचार के साथ स्वर्णकार समाज...
%d bloggers like this: