Wednesday, January 27, 2021

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री सरदार बूटा सिंह का निधन

दिल्‍ली हिंसा में 15 FIR दर्ज, गैंगस्टर लक्खा सिंह का नाम आया सामने

दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने अबतक अलग-अलग थानों में आज्ञातों पर कुल 15 एफआईआर दर्ज कर ली हैं।...

सैंट जेवियर्स स्कूल पांडेपार कौड़ीराम के प्रांगण में बड़े धूमधाम से ध्वज फहराया गया

26 जनवरी 72 वें गणतंत्र के अवसर पर  सैंट जेवियर्स स्कूल पांडे पार कौड़ीराम के प्रांगण में बड़े धूमधाम से झंडा फहराया...

किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा आरोप- आज की घटना के लिए पुलिस जिम्मेदार।

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि जो रूट दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड के लिए दिय़ा उस पर बैरीकेडिंग कर दी।...

Maharajganj: न्यू लाइफ पब्लिक स्कूल के प्रबधंक ने गरिबों में अंग वस्त्र वितरित कर लोगो का किया सम्मान।

Maharajganj: जनपद महाराजगंज में स्थित धानी ब्लाक के अंतर्गत ग्राम सभा नौसागर में स्थिति न्यू लाइफ पब्लिक स्कूल के प्रबधंक अशोक भाई...

बांसगांव के इस गांव में पंचायत चुनाव से पहले लगा चुनाव बहिष्कार का पोस्टर

गोरखपुर के धस्की गांव में लगा चुनाव बहिष्कार का पोस्टर गोरखपुर के बाँसगांव थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ दलित नेता सरदार बूटा सिंह (Sardar Buta Singh) का शनिवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. वह 86 वर्ष के थे. 21 मार्च, 1934 को पंजाब (Punjab) के जालंधर जिले के मुस्तफापुर गांव में जन्मे सरदार बूटा सिंह 8 बार लोकसभा (Lok Sabha) के लिए चुने गए.

ये भी पढ़े :  महाराजगंज: मुआवजा की मांग को लेकर दोनों किसान अड़े, तीसरे दिन भी अनशन जारी।

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ दलित नेता सरदार बूटा सिंह को दलितों का मसीहा कहा जाता था. नेहरू और गांधी परिवार के काफी करीब रहे सरदार बूटा सिंह अपने लंबे राजनीतिक सफर के दौरान भारत सरकार में केंद्रीय गृह मंत्री, कृषि मंत्री, रेल मंत्री और खेल मंत्री रहे. इसके साथ ही उन्होंने बिहार के राज्यपाल और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण विभागों का संचालन किया.

सरदार बूटा सिंह की मौत को कांग्रेस पार्टी में एक बड़ी क्षति के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि सरदार बूटा सिंह पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे. बूटा सिंह के परिजनों ने बताया कि शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस ली.

ये भी पढ़े :  कौड़ीराम में युवा लगातार कर रहे हैं असहायों की मदद, भूखों को मिल रहा सहारा

बता दें कि 1977 में जनता लहर के चलते जब कांग्रेस को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था उस वक्त कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से टूट की कगार पर आ गई थी. इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के एकमात्र राष्ट्रीय महासचिव के रूप में कड़ी मेहनत की और पार्टी को 1980 में फिर से सत्ता में लाने में अहम योगदान दिया.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

दिल्‍ली हिंसा में 15 FIR दर्ज, गैंगस्टर लक्खा सिंह का नाम आया सामने

दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने अबतक अलग-अलग थानों में आज्ञातों पर कुल 15 एफआईआर दर्ज कर ली हैं।...

किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा आरोप- आज की घटना के लिए पुलिस जिम्मेदार।

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि जो रूट दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड के लिए दिय़ा उस पर बैरीकेडिंग कर दी।...

किसानों के प्रदर्शन के बीच गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, अर्धसैनिक बलों की तैनाती के दिए आदेश

नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) ने...
%d bloggers like this: