Wednesday, May 12, 2021

प्यार और भाईचारे का बेमिसाल पैगाम : यहां मंदिर में अजान और मस्जिद में गूंजता है राम-राम

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। यह पंक्ति मालेरकोटला की सैमसन कॉलोनी पर सटीक बैठती है। इस कॉलोनी में मस्जिद और मंदिर साथ-साथ बने हैं और यह दोनों धार्मिक स्थल यहां सांप्रदायिक भाईचारे की मिसाल भी बने हुए हैं। मंदिर से आरती की धुन मस्जिद में तो मस्जिद से अजान की आवाज मंदिर में गूंजती है। हर सुबह मस्जिद के मौलवी मोहम्मद सबीर मंदिर के पंडित चेतन शर्मा को राम-राम पंडित जी के मधुर शब्दों से पुकारते हुए उनका मंदिर में पहुंचने पर स्वागत करते हैं। पंडित चेतन शर्मा भी जवाब में मौलवी जी से ‘राम-राम मौलवी साहिब, खैरियत है’ कहकर कुशलक्षेम पूछते हैं। मौलवी भी हल्की मुस्कुराहट से जवाब देते हैं ‘अल्लाह की मेहर’ है।

मंदिर व मस्जिद के बीच मात्र नौ ईंच की दीवार
मंदिर व मस्जिद के बीच मात्र नौ ईंच की दीवार का ही फासला है। मंदिर में मौजूद शिवलिंग पर जहां रोजाना मस्जिद में उगे बेल के विशाल पेड़ के बेलपत्र चढ़ाए जाते हैं। वहीं, रमजान माह के दौरान रोजा इफ्तारी के लिए मुस्लिम भाइयों को फल व खजूर इत्यादि मंदिर की तरफ से भेंट किए जाते हैं। दशहरा-दीवाली हो या ईद, यहां पर हर त्योहार मिलजुल कर मनाया जाता है। मंदिर से मस्जिद में ईद पर फल और मिठाइयां भेंट की जाती हैं।

ये भी पढ़े :  बिहार में राज्‍यसभा चुनाव को लेकर सियासत गरम

मिलकर मनाते हैं  दीपावली, दशहरा व ईद
वहीं, मस्जिद से दीवाली सहित अन्य त्योहारों पर मंदिर में फल-मिठाइयां भेंट करने सहित छबील और चाय का लंगर लगाया जाता है। विशेष बात यह है कि सैमसन कॉलोनी में अधिकतर परिवार हिंदू हैं। सिख समुदाय के कुछ परिवार भी यहां बसे हुए हैं। मुस्लिम समुदाय से संबंधित कोई भी परिवार इस कॉलोनी में नहीं है। अन्य कॉलोनियों से ही मुस्लिम समुदाय के लोग इस मस्जिद में रोजाना पांच वक्त की नमाज अदा करने पहुंचते हैं।

ये भी पढ़े :  मेकअप कराने ब्यूटी पार्लर गई थी एक बच्चे की मां, आशिक के साथ हुई फरार

14 साल पहले बनी मस्जिद, 10 साल पहले मंदिर
मस्जिद अकसा की प्रबंधक कमेटी के प्रधान वकील मोहम्मद सबीर ने बताया कि वर्ष 2004 में यहां पर मस्जिद का निर्माण आरंभ हुआ। 14 वर्ष से मस्जिद यहां पर स्थापित है। शुरुआत में इस कॉलोनी में अधिक घर नहीं थे। धीरे-धीरे आबादी बढ़ने लगी और यहां पर शहर की पॉश कॉलोनी स्थापित हो गई। मस्जिद के पास में ही चार साल बाद मंदिर की स्थापना हुई।

मौलवी मोहम्मद इलियास ने बताया कि सुबह चार बजकर पांच मिनट पर पहली अजान होती है। मैं रोजाना सुबह पौने चार बजे मस्जिद में पहुंच जाता हूं। साढ़े चार बजे पहली नमाज अदा करने के बाद वापस लौटता हूं। मस्जिद के गेट पर ही मंदिर के पंडित चेतन शर्मा से मुलाकात होती है। मंदिर में चेतन शर्मा शाम सात बजे आरती करते हैं, जिसके कुछ ही पलों के बाद अजान होती है। साढ़े सात बजे नमाज अदा की जाती है।

ये भी पढ़े :  2 लड़कियों ने घर से भागकर आपस में की शादी, दोनों रिश्ते में लगती है चचेरी बहन

मंदिर के निर्माण में मस्जिद से इस्तेमाल हुआ पानी व बिजली
श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर के पंडित चेतन शर्मा बताते हैं कि वर्ष 2014 में मंदिर का निर्माण आरंभ हुआ था। कॉलोनी में प्रबंधक कमेटी ने प्लॉट खरीदकर मंदिर का निर्माण आरंभ करवाया। शुरुआती समय में भले ही कई लोगों के मन में यह बात आई कि मस्जिद के बगल में मंदिर का निर्माण कैसे संभव होगा, लेकिन बिना किसी रुकावट व विवाद के मंदिर का निर्माण संपन्न हुआ। मस्जिद से ही पानी व बिजली की व्यवस्था करके मंदिर का निर्माण हुआ। मंदिर में मूर्ति स्थापना समागम के दौरान भी मस्जिद की तरफ से छबील इत्यादि का प्रबंध किया गया।

ये भी पढ़े :  5 साल पहले भारती ने कहा था- ड्रग्स सेहत के लिए हानिकारक, अब खुद गिरफ्तार हुईं तो लोग ले रहे चुटकी

तनावपूर्ण माहौल में भी आपसी भाईचारा था मजबूत
कॉलोनी निवासियों ने बताया कि वर्ष 2016 में जब मालेरकोटला शहर में पवित्र कुरान शरीफ की बेअदबी हुई तो पूरे इलाके में माहौल तनावपूर्ण हो गया था। अफवाहों का जोर था। शरारती तत्व माहौल बिगाड़ने की ताक में थे, लेकिन तनावपूर्ण व कर्फ्यू के माहौल में भी कॉलोनी का हर परिवार एकजुट रहा। मस्जिद व मंदिर की हिफाजत की, ताकि किसी भी अप्रिय घटना को रोका जा सके। मस्जिद व मंदिर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। अफवाहों से दूर रहकर आपसी भाईचारा कायम रखा गया।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

7वीं की छात्रा से एक साल तक रेप करता रहा ट्यूशन टीचर, प्रेग्नेंट हुई तो दवा खिलाकर करवा दिया अबॉर्शन

सहरसा. बिहार में एक प्राइवेट टीचर की काली करतूत सामने आई है. मामला सहरसा से जुड़ा है,...

बिहार: भागलपुर में भाजपा नेता के बेटे ने दुकान में सामान लेने आई नाबालिग लड़की से किया दुष्कर्म

बिहार के भागलपुर में भाजपा नेता के बेटे ने नाबालिग लड़की को बनाया हवस का शिकार। घटना...

बिहार : भाई ने की हैवानियत, 8 साल की मासूम बहन से रेप के बाद किया मर्डर

8 साल की बच्ची। मौसी की बेटी। रिश्ते में बहन। तीन-तीन कारण थे बख्श देने के। लेकिन,...
%d bloggers like this: