Friday, September 17, 2021

सीएम की सुपारी लेने वाला गोरखपुर का श्रीप्रकाश शुक्ला, पुलिसकर्मियों को मारने वाला विकास दुबे …

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में माफियाओं और अपराधियों की बंदूकों से चली गोली का मूलतः एक उद्देश्य होता है, जनता में भय स्थापित करना। लोगों को इस बात का आभास कराना कि उनके अपराध की तस्वीर क्या है? लेकिन लोगों के बीच डर पैदा करने की इस प्रक्रिया को एक और आयाम दिया श्रीप्रकाश शुक्ला जैसे अपराधियों ने। उनकी गोलियाँ सिर्फ डर पैदा करने के लिए नहीं चली, बल्कि उन्हीं डरे हुए लोगों की जान लेने के लिए भी चली। इस तरह की मानसिकता का सबसे नया उदाहरण है ‘विकास दुबे’। 

दोनों ही अपराधियों में कई बातें एक जैसी हैं, दोनों के जीवन का शुरूआती जीवन हो या अंत, एनकाउंटर के अलावा ऐसी तमाम बातें हैं जब दोनों एक जैसे ही नज़र आते हैं। दोनों अपराधियों को गिरफ्तार करने की ज़िम्मेदारी एसटीएफ के पास थी क्योंकि नेताओं से लेकर अधिकारियों तक, सभी जानते थे कि इन मामलों में चूक की गुंजाईश नहीं होती। जहाँ प्रशासन की तरफ से छोटी गलती भी होती तो उसका नतीजा बुरे से बुरा होता। 

सोशल मीडिया पर विकास दुबे के साक्षात्कार का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। भारत समाचार द्वारा साझा किए गए वीडियो में उसने साफ़-साफ़ बताया है कि कैसे वह राजनीति में आया, साल 2006 के इस वीडियो में उसने यह भी बताया कि कौन उसे राजनीति में लेकर आया। फिर विकास दुबे ने पूर्व उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय हरिकिशन श्रीवास्तव का नाम लिया और बताया कि राजनीति में लाने का श्रेय उन्हें ही जाता है। इसके ठीक पहले विकास दुबे ने यह भी बताया कि वह अच्छा छात्र था, उसने स्नातक तक पढ़ाई की है।    

ठीक इसी तरह श्रीप्रकाश शुक्ला भी पढ़ाई में बेहद औसत छात्र था। बहन के साथ छेड़ खानी करने वाले लोगों की हत्या करने के ठीक बाद उसे सुरक्षा की ज़रूरत थी। लेकिन सुरक्षा के बदले उसे संरक्षण मिला, उत्तर प्रदेश के दूसरे कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी का संरक्षण। भले श्रीप्रकाश शुक्ला राजनीति का हिस्सा नहीं बना लेकिन शुक्ला के राजनीतिक गुरु उसे राजनीतिक पड़ाव के कुछ कदम पहले तक ज़रूर ले आए। उसके बाद क्या हुआ वह इतिहास है, उत्तर प्रदेश को ऐसा अपराधी मिला जिसने किसी भी अपराध के बाद पीछे मुड़ कर नहीं देखा। 

ये भी पढ़े :  अर्थ से मून आर्बिट तक पहुंचने तक तीन देशों के खगोलशास्त्री रखेंगे नजर...
ये भी पढ़े :  कुशीनगर::-कोरोना से जुड़ी बड़ी व अच्छी खबर,कोरोना से जुड़े इन दो की रिपोर्ट आई निगेटिव

विकास दुबे पर जितनी हत्याओं के आरोप लगे उसमें सबसे बड़े नाम मंत्रियों के थे। हैरानी कहिए या संयोग श्रीप्रकाश शुक्ला की हत्याओं में भी जितने अहम नाम थे, मंत्रियों के ही थे। दोनों ने दिग्गज नेताओं पर गोलियाँ चलाई। विकास दुबे पर लगाए गए आरोपों के मुताबिक़ साल 2001 में उसने भाजपा नेता संतोष शुक्ला पर कानपुर देहात के शिवली थाने में अंधाधुंध गोलियाँ चलाई। 25 लोग इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी थे, लगभग सारे ही पुलिसकर्मी। किसी ने गवाही नहीं दी और विकास दुबे इस आरोप से बरी हुआ। हालाँकि, इस घटनाक्रम के पीछे कहानियाँ तमाम हैं लेकिन सतह पर नज़र आने वाली सबसे असल कहानी यही है। 

कुछ दिन पहले का घटनाक्रम जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए, कितने दर्दनाक तरीक से उनके लिए जाल बिछाया गया। रास्ता रोकने के लिए जेसीबी रास्तों पर जेसीबी लगाई गई, पुलिस वालों के हथियार तक छीन लिए गए। अंत में तस्वीर साफ़ होने पर पता चला कि साथी पुलिस कर्मियों ने कार्रवाई की सूचना विकास दुबे तक पहुँचाई। जिसके चलते विकास दुबे के लिए यह सब करना आसान हो गया, ख़बरों के अनुसार जानकारी मिलते ही उसने कहा, “आने दो सभी को, सभी को कफ़न में वापस भेजूँगा।”           

कहानी के पन्ने शुरू से पलटते ही यह साफ़ हो जाता है कि दोनों अपराधियों ने बंदूक का जिस कदर इस्तेमाल किया उस तरह बड़े से बड़े अपराधी भी नहीं करते। शुक्ला के हिस्से की एक कहानी भी कुछ ऐसी ही है। बात है साल 1997 की, आज से लगभग 21 साल पहले। पुलिस को सूचना मिली कि लखनऊ के जनपथ बाज़ार में श्रीप्रकाश शुक्ला अपने कुछ साथियों के मौजूद है। यह भी पता चला कि उसके पास एके 47 और पिस्टल भी है। एसएसपी सत्येन्द्र वीर सिंह, एक पेशकार दरोगा रवींद्र कुमार सिंह और गनर रणकेंद्र सिंह वहाँ पहुँचे। सामना हुआ, पकड़ने की कोशिश मुठभेड़ में तब्दील हुई। 

ये भी पढ़े :  कुशीनगर::-कोरोना से जुड़ी बड़ी व अच्छी खबर,कोरोना से जुड़े इन दो की रिपोर्ट आई निगेटिव

श्रीप्रकाश शुक्ला ने भागने की कोशिश की, तभी दरोगा आर के सिंह उसके पीछे दौड़े। अगले कुछ पल जनपथ बाज़ार में केवल गोलियों की आवाज़ सुनाई दी। मुठभेड़ के दौरान आर के सिंह के सिर पर 6 गोलियाँ लगीं और सीने पर दो, मालूम चला कि उन्होंने शुक्ला को दबोचा हुआ था जिसके बाद उसके साथियों ने दरोगा पर गोलियाँ चलाई। इसके बाद श्रीप्रकाश भले छूट गया लेकिन आर के सिंह सिर में 6 गोलियाँ लगने के बावजूद 10 मिनट तक डटे रहे। 

लेकिन इस घटना के बाद श्रीप्रकाश शुक्ला के लिए आगे का रास्ता बहुत मुश्किल हो गया। पुलिस महकमे के कुछ अधिकारियों ने खुद जिम्मा उठाया कि मामले पर ठोस नतीजे देकर ही रहेंगे। इस अभियान को उत्तर प्रदेश पुलिस के इतिहास का सबसे खतरनाक अभियान भी माना जाता है, सबसे ज़्यादा जोखिम भरी ‘पुलिस चेज़’। तीन पुलिस अधिकारियों (तत्कालीन एसएसपी अरुण कुमार, एसपी सत्येन्द्र वीर सिंह और एएसपी राजेश पाण्डेय) ने अभियान पूरा किया। मौके पर सैकड़ों गोलियाँ चलीं, पुलिस ने शुक्ला को गाज़ियाबाद में चारों तरफ से घेरा और छलनी कर दिया।              

ये भी पढ़े :  भजन सम्राट और जगराता में माता के भजन गाने के लिए मशहूर नरेंद्र चंचल का दिल्ली में आज निधन हो गया
चित्र साभार – सोशल मीडिया

कुल मिला कर ऐसी घटनाएँ और ऐसे किरदार एक स्पष्ट संदेश देते हैं कि अपराधी बनते नहीं है, बनाए जाते हैं। अच्छी भली नक्काशी के बाद तैयार किए जाते हैं, जिसमें अधिकारियों से लेकर राजनेताओं तक सभी का कुछ फ़ीसदी योगदान होता है। विकास दुबे की गिरफ्तार को आत्मसमर्पण कहा जाए या गिरफ्तारी, यह अभी अस्पष्ट है लेकिन हर बड़ी घटना अपने पीछे तमाम सवाल छोड़ती है। कालांतर में इन अपराधियों ने सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था को बड़े पैमाने पर बदला है, फिर आने वाले कल में कैसे तय होगा कि ऐसे अपराधी जन्म नहीं लेंगे? फिर कोई महकमे के भीतर का व्यक्ति इनकी मदद नहीं करेगा और पुलिस वालों की जान नहीं जाएगी?    

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: तेज तर्रार नेता नितेश मिश्र भाजपा छोड़ थामा सपा का दामन, आपने सैकड़ों समर्थकों के साथ ली सदस्यता

Maharajganj/Dhani: धानी ब्लॉक के डेढ़ सौ लोगो ने पूर्व भाजपा नेता नीतेश मिश्र के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सदस्यता लिया। प्राप्त...

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...

Maharajganj: सपा नेता राम प्रकश सिंह के नेतृत्व में निकाली गई साईकिल रैली

Maharajganj: समाजवादी पार्टी महाराजगंज के कार्यकर्ताओं ने स्वर्गीय जनेश्वर मिस्र के जयंती के शुभ अवसर पर समाजवादी साईकिल यात्रा का आयोजन फरेंदा...
%d bloggers like this: