- Advertisement -
n
n
Tuesday, May 26, 2020

Lockdown Effect: फिर बंद हुई इन ट्रेनों की बुकिंग, अब 30 अप्रैल तक नहीं चलेंगी ये ट्रेनें

Views
Gorakhpur Times | गोरखपुर टाइम्स

नई दिल्ली. कोरोनावायरस का बढ़ता प्रकोप बढ़े जा रहा है जिस वजह से लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के आसार दिख रहे हैं. इसी को देखते हुए प्राइवेट ट्रेनों में बुकिंग फिर से बंद कर दी गई है. बता दें कि अब इन ट्रेनों में एक मई 2020 से बुकिंग खोली गई है. प्राइवेट ट्रेन के परिचालन की शुरुआत करने वाली कंपनी इंडियन रेलवे कैटरिंग ऐंड टूरिज्म कारपोरेशन (IRCTC) आगामी 15 अप्रैल से 30 अप्रैल के बीच प्राइवेट ट्रेन का परिचालन रद्द कर दिया गया है. इसलिए इन ट्रेनों में बुकिंग फिर से बंद कर दी गई है. इस बारे में रेलवे को सूचना भेज दी गई है ताकि उन्हें भी आसानी रहे.

एक रेल अधिकारी के मुताबिक लॉकडाउन के बाद की अवधि के लिए जब ट्रेन में बुकिंग खोली गई थी तो रेलवे के लोकप्रिय ट्रेनों में तो बुकिेंग खूब मिली. लेकिन प्राइवेट ट्रेन में बुकिंग बेहद कम मिली. देखा गया कि एक दिन में डेढ़ सौ या दो सौ यात्रियों की बुकिंग मिल रही है. इतने यात्रियों को लेकर तो पूरी ट्रेन चलाना मुश्किल है. इसलिए इन ट्रेनों को अप्रैल महीने तक के लिए रद्द कर दिया गया है. आगामी एक मई से बुकिंग खुली है और जो यात्री चाहें, इसमें बुकिंग बंद करा सकते हैं.

ये भी पढ़े :  क्‍या देश में कोरोना स्‍टेज 3 पर पहुंच गया है ? बहुत तेजी से फैल रही इस खबर का सच यहां पढ़ें

अधिकारी का कहना है कि जिन अधिकारियों ने 15 से 30 अप्रैल 2020 के बीच यात्रा के लिए तेजस एक्सप्रेस में बुकिंग कराई थी, उन्हें रिफंड दे दिया जाएगा.

NOTE:  गोरखपुर टाइम्स का एप्प जरुर डाउनलोड करें  और बने रहे ख़बरों के साथ << Click

Subscribe Gorakhpur Times "YOUTUBE" channel !

The Photo Bank | अच्छे फोटो के मिलते है पैसे, देर किस बात की आज ही DOWNLOAD करें और दिखाए अपना हुनर!

 

प्रधानमंत्री द्वारा बीते 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद रेलवे ने 21 दिनों के लिए 13,523 ट्रेनों की सेवाएं निलंबित कर दी थीं. इसी वजह से प्राइवेट ट्रेनों का संचालन भी बंद हुआ है.

इस समय आईआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस के नाम से देश के दो अति व्यस्त रूटों पर प्राइवेट ट्रेनों का परिचालन करती है. इनमें दिल्ली से लखनउ और अहमदाबाद से मुंबई का रूट शामिल है.

Advertisements
%d bloggers like this: