Friday, September 17, 2021

इंसान ने अपनी इन गलतियों से पैदा किया कोरोना वायरस, अब बनी महामारी

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

दुनिया भर में कोरोना वायरस की महामारी फैल रही है तो इसके लिए इंसान खुद ही जिम्मेदार हैं. एक स्टडी में दावा किया गया है कि शिकार, खेती और बड़ी संख्या में लोगों के शहरों की तरफ पलायन की वजह से जैव-विविधता में बड़े पैमाने पर कमी आई है और लोगों का वन्य जीवों के साथ सीधा संपर्क बढ़ता गया. इन वजहों से ही Covid-19 जैसे वायरस का खतरा बढ़ा.

स्टडी में इस बात की संभावना जताई गई है कि कोरोना वायरस महामारी वन्य जीवों के साथ मनुष्यों के ज्यादा संपर्क बढ़ने की वजह से फैली है. ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगाया है कि कौन से जानवर मनुष्यों में ज्यादा वायरस फैलाते हैं.

कई सालों से 142 वायरस जानवरों से मनुष्यों में फैल रहे हैं. वैज्ञानिकों ने इन वायरसों का अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (International Union for Conservation of Nature) की खतरे वाली प्रजातियों की लाल सूची से मिलान किया.

गाय, भेड़, कुत्ते और बकरियों जैसे पालतू जानवरों से मनुष्यों में सबसे अधिक वायरस जाते हैं. वो जंगली जानवर, जो मनुष्यों के वातावरण में अच्छे से ढल जाते हैं, वो भी लोगों में वायरस को फैलाने का काम करते हैं.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर के बड़े उद्योग पति और उनकी पत्नी की मार्ग मृत्यु...

चूहे, गिलहरी, चमगादड़ और सभी स्तनधारी जीव अक्सर लोगों के बीच, घरों और खेतों के करीब रहते हैं. ये सब एकसाथ मिलकर करीब 70 फीसदी वायरस फैलाते हैं. सार्स, निपाह, मारबर्ग और इबोला जैसी बीमारियां अकेले चमगादड़ों से ही फैल गई थीं.

ये भी पढ़े :  राष्ट्रीय पोषण माह का हुआ शुभारम्भ, डीएम और सीडीओ ने काटा फीता....

लंदन की रॉयल सोसाइटी बी की पत्रिका में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार संक्रामक रोग फैलने का सबसे ज्यादा खतरा विलुप्त हो रहे उन जंगली जानवरों से है जिनकी आबादी शिकार, वन्य जीव व्यापार और कम होते जंगलों की वजह से काफी हद तक कम हो गई है.

इस स्टडी में कहा गया है, ‘जैव विविधता वाले क्षेत्रों में अतिक्रमण की वजह से मनुष्यों और वन्यजीवों के बीच नए संपर्क स्थापित हो रहे हैं जिसकी वजह से संक्रामक रोगों के फैलने का खतरा बढ़ जाता है. स्तनधारी जानवरों और चमगादड़ों की कुछ प्रजातियों से पशुजन्य वायरस फैलने की ज्यादा संभावना होती है.

स्टडी की प्रमुख लेखक और वन हेल्थ इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर क्रेउडर जॉनसन ने कहा, ‘जानवरों से वायरस फैलने की सीधी वजह वन्य जीवों और उनके निवास स्थान से जुड़े हमारे काम हैं. अब परिणाम यह है कि वे अपने वायरस हम तक फैला रहे हैं. ये चीजें जानवरों के अस्तित्व को खतरे में डालने के साथ संक्रमण के भी खतरे को बढ़ा रही हैं.’

क्रेउडर जॉनसन ने कहा, ‘ये चीजें दुर्भाग्यपूर्ण हैं और हम अपने लिए कई मुश्किलें पैदा कर रहे हैं. हमें वास्तव में इस चीज को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है कि वन्य जीवों और मनुष्यों के बीच किस तरह से सही तालमेल बिठाया जा सके. जाहिर है कि हम इस तरह की महामारी नहीं चाहते हैं. हमें वन्य जीवों के साथ मिलजुलकर रहने के और तरीके खोजने की जरूरत है, क्योंकि उनके पास वायरस की कोई कमी नहीं है.’

ये भी पढ़े :  मानव सेवा संस्थान द्वारा जनता को सोसल डिस्टेंसिंग को ध्यान मे रख कर मास्क और राहत सामग्री का वितरण

इसके अलावा, दुनिया भर के 200 से अधिक वन्य जीव संगठनों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को पत्र लिखकर कई देशों पर वन्य जीवों के अरबों रुपये के व्यापार को लेकर कई तरह की सावधानी बरतने को कहा है. इसमें सभी जीवित वन्य जीव के बाजारों और पारंपरिक चिकित्सा में इनके इस्तेमाल पर स्थायी प्रतिबंध लगाने की भी सिफारिश की गई है.

ये भी पढ़े :  राष्ट्रीय पोषण माह का हुआ शुभारम्भ, डीएम और सीडीओ ने काटा फीता....

इस पत्र के अनुसार, Covid-19 महामारी, चीन के वेट मार्केट से फैली है जहां हर तरह के पशुओं का मांस मिलता है. जानवरों और लोगों के बीच इतनी करीबी होने की वजह से यह मनुष्यों में फैल गया.

इंटरनेशनल वेलफेयर फॉर एनिमल वेलफेयर, जूलॉजिकल सोसाइटी ऑफ लंदन और पेटा जैसे समूहों का भी कहना है कि वैश्विक स्तर पर वन्य जीव बाजारों पर प्रतिबंध से कई तरह की बीमारियों को फैलने से रोका जा सकता है.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: तेज तर्रार नेता नितेश मिश्र भाजपा छोड़ थामा सपा का दामन, आपने सैकड़ों समर्थकों के साथ ली सदस्यता

Maharajganj/Dhani: धानी ब्लॉक के डेढ़ सौ लोगो ने पूर्व भाजपा नेता नीतेश मिश्र के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सदस्यता लिया। प्राप्त...

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...

Maharajganj: सपा नेता राम प्रकश सिंह के नेतृत्व में निकाली गई साईकिल रैली

Maharajganj: समाजवादी पार्टी महाराजगंज के कार्यकर्ताओं ने स्वर्गीय जनेश्वर मिस्र के जयंती के शुभ अवसर पर समाजवादी साईकिल यात्रा का आयोजन फरेंदा...
%d bloggers like this: