Friday, July 23, 2021

WHO की रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना से मरे व्यक्ति की डेडबॉडी के अंतिम संस्कार से नहीं है खतरा ….

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

क्या सच में कोरोना वायरस संक्रमण से मरे व्यक्ति की डेडबॉडी जलाने या दफनाने से COVID-19 का संक्रमण फैल सकता है. हमने इस पर WHO की रिपोर्ट और डॉक्टरों से परामर्श लिया तो इसका उत्तर मिला लेकिन उसके पहले कोलकाता में कोरोना से हुई मौत और फिर शव के अंतिम संस्कार किए जाने पर क्या समस्याएं हुईं पहले ये जान लीजिए.

जहां पूरा देश कोरोना से लड़ रहा है, वहीं हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनने के बाद आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे. दरअसल पश्चिम बंगाल में कोलकाता के धापा इलाके में, शुक्रवार को COVID-19 के संक्रमण के कारण सकाश नाम के एक शख्स की मौत हो गई. मौत के बाद जब उसके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए सरकार द्वारा निर्धारित श्मशान घाट ले जाया जा रहा था, तभी पूरे इलाके में हजारों की संख्या में लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी. हालांकि पुलिस ने इन लोगों को रोकने की कोशिश भी की लेकिन लोग नहीं माने. लोगों का कहना था कि मृतक एक कोरोना संक्रमित है और उसकी डेडबॉडी को जलाने से दूसरों पर भी कोरोना का असर पड़ सकता है.

बता दें कि फिर कोलकाता पुलिस के DC गौरव लाल मौके पर थे, उन्होंने लोगों से गुहार भी की लेकिन इलाके के लोग नहीं माने और लगातार विरोध करने लगे. फिर पुलिस ने स्थिति कंट्रोल करने की बहुत कोशिश की लेकिन भारी भीड़ के सामने पुलिस की टीम सफल नहीं हो पाई.

ये भी पढ़े :  समुद्र में चीन को घेरने के लिए तीसरा नेवी बेस खोलेगा भारत...

यहां दो विषय पर चर्चा करने जरूरी है, पहला जहां सरकार आम जनता से बार-बार गुहार लगा रही है कि एक जगह पर एक साथ 5 लोगों से ज्यादा इकट्ठा ना हों और फिर भी हमारे देश के लोग ये बात समझ नहीं पा रहे हैं. दूसरा सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या कोरोना पीड़ित की डेडबॉडी को जलाने या दफनाने से संक्रमण फैलने का खतरा है या नहीं. और अगर खतरा है तो फिर ऐसे लोगों की डेडबॉडी का अंतिम संस्कार कैसे किया जाए. इस प्रश्न का उत्तर पाने के लिए हमारी ज़ी मीडिया की टीम ने WHO की रिपोर्ट देखी और डॉक्टर से बात की.

ये भी पढ़े :  हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है 74वां स्वतंत्रता दिवस

WHO का रिपोर्ट के मुताबिक अगर कोरोना से संक्रमित होकर मरे किसी शख्स की डेडबॉडी को जलाया जाता है तो क्या होगा-

1 . अगर डेडबॉडी को इलेक्ट्रिक मशीन, लकड़ी या सीएनजी से जलाया जाता है तो जलते समय आग की तापमान 800 से 1000 डिग्री सेल्सियस होगा, ऐसे में कोई भी वायरस जीवित रहेगा.

2 . अगर डेडबॉडी को दफनाने की जगह और पीने के पानी के स्त्रोत में 30 मीटर या उससे अधिक की दूरी है तो कोई खतरा नहीं होगा.

WHO की ‘संक्रमण रोकथाम, महामारी नियंत्रण और स्वास्थ्य देखभाल में महामारी प्रवृत तीव्र श्वसन संक्रमण’ पर गाइडलाइंस में शव को आइसोलेशन रूम या किसी क्षेत्र से इधर-उधर ले जाने के दौरान शव के फ्लूइड्स के सीधे संपर्क में आने से बचने के लिए निजी सुरक्षा उपकरणों का समुचित इस्तेमाल करने का सुझाव दिया गया है.

क्या हैं गाइडलाइंस:

WHO के दिशा-निर्देशों में इस बात पर बहुत जोर दिया गया है कि COVID-19 हवा से नहीं फैलता बल्कि बारीक कणों के जरिए फैलता है.

मेडिकल स्टॉफ से कहा गया है कि वो COVID-19 के संक्रमण से मरे व्यक्ति के शव को वॉर्ड या आइसोलेशन रूम से WHO द्वारा बताई गई सावधानियों के साथ ही शिफ्ट करें.

शव को हटाते समय पीपीई का प्रयोग करें. पीपीई एक तरह का ‘मेडिकल सूट’ है, जिसमें मेडिकल स्टाफ को बड़ा चश्मा, एन95 मास्क, दस्ताने और ऐसा एप्रन पहनने का परामर्श दिया जाता है जिसके भीतर पानी ना जा सके.

ये भी पढ़े :  बड़ी खबर:- भारत में 1200 स्थानों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया...

मरीज के शरीर में लगीं सभी ट्यूब बड़ी सावधानी से हटाई जाएं. शव के किसी हिस्से में घाव हो या खून के रिसाव की आशंका हो तो उसे ढका जाए.

मेडिकल स्टाफ यह सुनिश्चित करे कि शव से किसी तरह का तरल पदार्थ ना रिसे.

शव को प्लास्टिक के लीक-प्रूफ बैग में रखा जाए. उस बैग को एक प्रतिशत हाइपोक्लोराइट की मदद से कीटाणुरहित बनाया जाए. इसके बाद ही शव को परिवार द्वारा दी गई सफेद चादर में लपेटा जाए.

केवल परिवार के लोगों को ही COVID-19 के संक्रमण से मरे व्यक्ति का शव दिया जाए.

ये भी पढ़े :  मजदूरों से वसूला जा रहा है विशेष ट्रेनों का किराया? जब पैसे लेकर भेजना था तो पहले दिन भेज देते, तब पैसा था अब तो खाने को भी पैसे नही है।

कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के इलाज में इस्तेमाल हुईं ट्यूब और अन्य मेडिकल उपकरण, शव को ले जाने में इस्तेमाल हुए बैग और चादरें, सभी को नष्ट करना जरूरी है.

मेडिकल स्टाफ को यह दिशा-निर्देश मिले हैं कि वे मृतक के परिवार को भी जरूरी जानकारियां दें और उनकी भावनाओं को ध्यान में रखते हुए काम करें.

शवगृह से जुड़ी गाइडलाइंस:

भारत सरकार के अनुसार COVID-19 से संक्रमित शव को ऐसे चैंबर में रखा जाए, जिसका तापमान करीब 4 डिग्री सेल्सियस हो.

शवगृह को साफ रखा जाए और फर्श पर तरल पदार्थ ना हो.

COVID-19 से संक्रमित शव की एम्बामिंग पर रोक है यानी मौत के बाद शव को सुरक्षित रखने के लिए उस पर कोई लेप नहीं लगाया जा सकता है. कहा गया है कि ऐसे व्यक्ति की ऑटोप्सी यानी शव-परीक्षा भी बहुत जरूरी होने पर ही की जाए.

शवगृह से COVID-19 शव निकाले जाने के बाद सभी दरवाजे, फर्श और ट्रॉली सोडियम हाइपोक्लोराइट से साफ किए जाएं.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: