Saturday, July 31, 2021

योगी आदित्यनाथ ने जिस तूफानी ढंग से लोक सभा चुनाव का पहला ओवर खेला हैं नतीजे दिखने…

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

जिस बुनियाद पर यूपी में सपा-बसपा गठबंधन खड़ा हुआ वो हिल चुकी है. नींव की ईंटें हटाई तो नहीं गयी हैं, लेकिन उनके नीचे की जमीन दरकने लगी है. ये हाल तब है जबकि पहले चरण के लिए भी अभी वोट नहीं पड़े हैं.

योगी आदित्यनाथ को मायावती और अखिलेश यादव से गोरखपुर उपचुनाव की हार बदला लेने का मौका चुनाव से पहले ही मिल गया. गोरखपुर में लोक सभा के लिए 19 मई को वोट डाले जाने हैं.

निषाद पार्टी का सपा-बसपा गठबंधन से नाता तोड़ लेना योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के लिए आधा-बदला लेने जैसा ही है.

योगी आदित्यनाथ पहले ओवर से ही तूफानी पारी खेल रहे हैं।

योगी आदित्यनाथ ने यूपी में गोवा जैसा गुल खिलाया है. नतीजा गोवा वाली स्थिति में तो नहीं पहुंचा है, लेकिन काफी करीब लगता है. गोवा में MGP ने बीजेपी से सौदेबाजी करके डिप्टी सीएम की कुर्सी लेकर ही शांत हुई. बीजेपी ने पार्टी के बाकी बचे दो विधायकों को भगवा ओढ़ाया और नेता को कुर्सी से धक्का देकर उतार दिया. योगी आदित्यनाथ को इतना सब तो नहीं करना पड़ा है, लेकिन जो जुगत लगायी गयी लगती है, वो मिलती जुलती ही लगती है. योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के साल भर बाद गोरखपुर से बहुत बुरी खबर मिली जब बरसों पुरानी उनकी सीट उनके कट्टर विरोधी हथिया लिये. गोरखपुर के साथ ही फूलपुर उपचुनाव और फिर कैराना उपचुनाव में भी योगी आदित्यनाथ की शिकस्त हुई. जीत का सेहरा एक ही तरफ बंधा जा रहा था.

ये भी पढ़े :  बवाल के बीच योगी का बड़ा फैसला, यूपी के सभी जिलों में धारा 144 लागू, सारे कार्यक्रम रद्द

योगी ने मायावती और अखिलेश की बनती जोड़ी को थोड़ा झटका तो राज्य सभा के चुनाव में ही दिया था – लेकिन उसका कोई फर्क नहीं पड़ा. तीन उपचुनावों में मिली जीत के जोश से लबालब गठबंधन के नेताओं ने कांग्रेस को भी आस पास नहीं फटकने दिया. बीजेपी के खिलाफ चुनाव मैदान में अब कांग्रेस भी उतर आयी है और वो गठबंधन के ही वोट बांटने वाली है, लेकिन मायावती यही संकेत दे रही हैं कि उन्हें जरा भी परवाह नहीं है.

ये भी पढ़े :  बीहड़ में तो बागी होते हैं डकैत मिलते है पार्लियामेंट में - अलविदा इरफान,माँ की मृत्यु तीन दिन पहले हुई थी

अखिलेश यादव और मायावती के लिए पहला झटका तो निषाद पार्टी का दूर होना है और दूसरा योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर हाथ मिलाने का मैसेज भेजना. मतलब, निषाद पार्टी का जो वोट गठबंधन की चुनावी जीत का आधार बना अब वो बीजेपी के पाले में जा सकता है.

निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात और समाजवादी पार्टी की ओर से प्रवीण कुमार निषाद की जगह रामभुआल निषाद को टिकट दिया जाना सारे सियासी समीकरणों के बदल जाने का संकेत है. समाजवादी पार्टी के टिकट पर प्रवीण कुमार निषाद ही उपचुनाव जीते थे. प्रवीण निषाद ने अभी समाजवादी पार्टी में बने रहने या छोड़ने को लेकर कोई रूख जाहिर नहीं किया है. वो निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ. संजय निषाद के बेटे हैं.

अब तो निषाद वोट ही निर्णायक होंगे

गोरखपुर संसदीय क्षेत्र में निषादों की तादाद तीन से साढ़े तीन लाख के बीच है. गोरखपुर-बस्ती मंडल के दूसरे विधानसभा क्षेत्रों में भी निषाद वोटों की निर्णायक भूमिका होती है. गोरखपुर सीट पर अब तक गोरक्ष पीठ का हाथ होने के कारण बाकी वोट बेअसर हो जाते रहे – लेकिन पीठ के महंथ योगी आदित्यनाथ के मैदान से हटते ही बाजी पलट गयी.

उपचुनाव में बीजेपी ने उपेंद्र दत्त शुक्ला को उम्मीदवार बनाया था. दरअसल, बीजेपी चाहती थी कि ब्राह्मण वोट बरकरार रहे. योगी आदित्यनाथ के चलते ब्राह्मण वोट बीजेपी से नाराज माना जाता था. उपेंद्र दत्त शुक्ला से पहले बीजेपी ने योगी के विरोधी शिव प्रताप शुक्ला को राज्य सभा भेज कर मंत्री भी बनाया था – लेकिन निषाद वोटों के एकजुट हो जाने के कारण उपचुनाव में सीट से हाथ धोना पड़ा था.

ये भी पढ़े :  बीआरडी की नर्स-छुट्टी पर आया सिपाही सहित 12 मिले कोरोना पॉजिटिव,गोरखपुर में मरीजो की संख्या हुई 163....

इलाके में निषाद समुदाय की आबादी को देखते हुए ही संजय निषाद ने 2016 में निषाद पार्टी बना ली. NISHAD संक्षिप्त रूप है जिसका विस्तार ‘निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल’ के रूप में होता है.

माना जा रहा था कि बीजेपी भी गठबंधन को काउंटर करने के लिए किसी निषाद उम्मीदवार को ही आजमाना चाहेगी. जब इलाके के असरदार निषाद परिवार से आने वाले अमरेन्द्र निषाद ने समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी ज्वाइन किया तो तस्वीर काफी साफ लगने लगी. ऐसा लगा कि प्रवीण निषाद गठबंधन के प्रत्याशी होंगे और बीजेपी का टिकट अमरेंद्र निषाद को मिलेगा. अब यूपी की राजनीति ने जिस तरह करवट बदली है – कुछ नया होने के संकेत मिल रहे हैं.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर पहुंचे पीएम मोदी...

समाजवादी पार्टी ने जिसे टिकट दिया है वो रामभुआल निषाद बीएसपी सरकार में मंत्री रह चुके हैं और 2014 में बीएसपी के ही टिकट पर लोक सभा का चुनाव लड़ चुके हैं. जातीय समीकरण और वोट बैंक के हिसाब से देखें तो राम भुआल बीस लगते हैं. अगर बीजेपी की ओर से प्रवीण निषाद टिकट पाने में कामयाब रहते हैं तो उनके सामने एक ऐसा उम्मीदवार होगा जो बीएसपी में रह चुका है और समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहा है. समझने वाली बात ये है कि मतदाताओं के लिए चेहरा भी पुराना होगा और गठबंधन के वोटों के ट्रांसफर होने की गारंटी भी।

एस • रंजन राय, गोरखपुर टाइम्स।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...
%d bloggers like this: